Short & Long Essay On Diwali Festival In English For Kids

Short & Long Essay On Diwali Festival In English For Kids – Welcome to our site, Here we have updated Essay on diwali festival in English. You will also get here Essay on Diwali for kids after that you can check Essay on Diwali in Hindi for class 7. We hope you will like Essay on Diwali in for class 3 because all short & long Essay are very good. Apart from these we have also updated Essay on Diwali vacation and Essay on Diwali in Hindi for kids, Essay on Diwali in Bengali, Essay on Diwali in Tamil, Essay on Diwali Telugu, Essay on Diwali Marathi because we loved children and students very much that is why we did hard work to update this article on our site. So don’t waste your precious time to read this article just go below and check Essay on Diwali in English and Essay on Diwali in Marathi. These Essays are in 250 words, 300 words, 350 words, 400 words, 500 words, 600 words.

happy-diwali-essay

Essay on Diwali For Kids

The Hindus In India Celebrated Many Festival. Diwali Is The Very Famous Festival In India. On This Day , Lord  RAMA  Come To Ayodhya  After 14 Years. The People Of Ayodhya Celebrated His Arrival. The Ayodhya People Lighting Up The Houses With Candles & Lamps. The People Celebrated This Festival With Their Friends & Relative. People Serve Sweets To Their Friends & Relatives. All People Wear New Dresses On This Festival. People Decorate Their Homes With Lamps & Candles. Diwali Is Also Called ‘ Festival Of Light. On This Day , All People Enjoy The Firework At Night.

Essay on Diwali in Hindi For Class 3

दीपावली या दीवाली रोशनी का त्योहार है
दीपावली का अर्थ है दीपों की पंक्ति।
दीपावली दीपों का त्योहार है।
इसे दीवाली या दीपावली भी कहते हैं।
इसे सिख, बौद्ध तथा जैन धर्म के लोग भी मनाते हैं।
दीपावली के दिन अयोध्या के राजा श्री रामचंद्र अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे।
श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीए जलाए थे।
तब से आज तक प्रति वर्ष यह पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं।
यह पर्व अक्टूबर या नवंबर महीने में पड़ता है।
दीवाली अँधेरे से रोशनी में जाने का प्रतीक है।
कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती है।
दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाज़ार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं।
दीवाली भारत में एक सरकारी छुट्टी है
दिवाली भारत के आलावा नेपाल , श्रीलंका , म्यांमार , मारीशस , गुयाना , त्रिनिदाद और टोबैगो , सूरीनाम , मलेशिया , सिंगापुर और फिजी में भी मनाया जाता है .
हिंदुओं के लिए दीवाली एक महत्वपूर्ण त्यौहार है

Essay on Diwali For Class 4

Diwali is great festival of Hindus it is celebrate with great love in all over the country.it is the festival of light. People say that we celebrate Diwali because on that day god ram return from lanka and the people of ayodhya welcomed him by lightning small lamps so as honor to lord Ram and also to conquer darkness we celebrate this festival. Diwali is the symbol of the victory of the forces of good over evil. Thus Diwali – My Favourite Festival and I like it from when I were kid. Jains says this is the day when Lord Mahavira attained “moksha or salvation”. They show lights in jubilation of thus attainment. Dayanand Saraswati of Arya Samaj also attained ‘Nirvana’ on this day. It is a festival of lights and firework. It comes after Durga Puja as the winter sets in. In West Bengal and some other places in North India Goddess Kali is worshipped during the Diwali. As the lights keep away the darkness, Goddess Kali drives away the evil forces in our world.

Essay on Diwali in Hindi For Class 5

दीपावली दीपों का त्योहार है। प्रतिवर्ष पूरे भारत सहित विश्व को कोने-कोने में हिन्दू धर्मावलम्बियों द्वारा इस पर्व को पूरे हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है। इस त्योहार का हिन्दू धर्म में अत्यंत महत्व है। इसे प्रकाश का त्योहार भी कहा जाता है। प्रतिवर्ष आश्विन मास की अमावश्या को दीप जलाकर और पटाखे छोड़ कर इसका आनंद लेते हैं।दीपावली क्यों मनाया हटा है इसके पीछे अनेक पौराणिक कथाएँ प्रचलित हैं। इनमें से एक प्रसिद्ध कथा है की जब भगवान राम, रावण के वध के पश्चात अयोध्या लौटे तो वो दिन अमावश्या का था। अतः लोगों ने अपने प्रिय राम के स्वागत और अंधेरे को दूर भागने के लिए पूरे अयोध्या को दीपों से प्रज्वलित कर दिया था। अतः ये प्रथा तब से चलने लगी। एक अन्य मान्यता के अनुसार इसी दिन धन और संपन्नता की देवी लक्ष्मी, राजा बाली के चंगुल से आजाद हुई थी। चंद कलेंडर के अनुसार इस दिन को हिन्दू कलेंडर की प्रारम्भिक तिथि अर्थात पहली तारीख भी मानी जाती है। अतः लोग इन मान्यताओं के अनुसार पूरे हर्षोउल्लास के साथ देश-विदेश के विभिन्न भागों में दीपावली मानते हैं।
दीपावली के आने से कुछ दिनों पूर्व से ही लोग अपने घरों की साफ सफाई और रंग रोगन के कार्य में लग जाते हैं। इसके पश्चात लोग घरों पर विभिन्न प्रकार के बल्ब और रंगीन बल्ब से अपने घर बाहर सजाते हैं। घरों में रंगोलियां बनाई जाती है। अनेक प्रकार के पकवान बनाए जाते हैं। हर घर में गणेश-लक्ष्मी की प्रतिमा बिठाई जाती है। फूलों से घरों के प्रवेश द्वार को सजाया जाता है। दुकानदार अपने-अपने दुकानों में भी पूजन करते हैं। लोगों द्वारा सहर्ष जुआ खेला जाता है। घरों को दिये जलाकर प्रकाशित किया जाता है। बच्चे-बूढ़े सभी पटाखे छोड़ते हैं। पूरा दिन और रात सुहावना होता है।
वैसे तो दीपावली जब भी आती है लोगों में उत्सुकता और अपने घरों को नए रूप में सजाने की बेचैनी सहज ही देखी जा सकती है, लेकिन हर वर्ष देश के विभिन्न भागों में कोई न कोई दुर्घटना जरूर हो जाती है। लोगो की नासमझी और सही तरीके से पटाखे नहीं छोड़ने के कारण कई लोग पटाखों से घायल हो जाते हैं। कई बार तो खलिहान, घरों और दुकानों में पटाखों से आग लग जाती है। बच्चों को तो सबसे अधिक खतरा होता है। पटाखों के अत्यधिक प्रयोग से वातावरण भी प्रदूषित हो जाता है।
अतः हमें पर्यावरण के अनुकूल सामग्रियों से ही इस रोचक पर्व का आनंद लेना चाहिए। पटाखों के प्रयोग के समय सावधानी बरतना चाहिए। जब भी बच्चे पटाखों का प्रयोग करें, साथ में बड़े लोगों को उनका मार्गदर्शन करना चाहिए। हमें दिये, बत्ती और मिठाइयों के साथ जहां तक संभव हो इस पर्व को मनाने चाहिए।

Essay on Diwali in Hindi For Class 7

दीपावली शब्द दीप । अवली शब्द मे मिलकर बना है जिसका अर्थ है दीपों की पंक्ति या अवली या माला । इस त्योहार पर घर-घर में दीप जलाए जाते हैं । इसलिए इसका नाम दीपावली पड़ा । -यह त्योहार कार्तिक मास की .अमावस्या को मनाया जाता है । इस त्योहार को मनाने के अनेक धार्मिक, सांस्कृतिक एवं पौराणिक कारण हैं । .इस दिन श्री रामचंद्र जी चौदह वर्ष का वनवास काटकर तथा रावण को मारकर अयोध्या लौटे थे । अयोध्यावासियों ने उनके आने की खुशी में दीप जलाए थे । तभी से यह त्योहार दीप जलाकर मनाया जाता है । इस त्योहार को मनाने के अनेक धार्मिक-, सांस्कृतिक एवं पौराणिक कारण हैं । इस दिन -प्री राम चंद्र जी -चौदह वर्ष का वनवास काटकर तथा रावण को मारकर अयोध्या लौटे थे । अयोध्यावासियों ने उनके आने की खुशी में दीप जलाए थे । तभी .से यह त्योहार दीप जलाकर मनाया जाता है । जैन खि के अनुयायियों के अनुसार इसी दिन जैन मत के प्रवर्तक महावीर स्वामी को निर्वाण प्राप्त हुआ था । इसी दिन अयि समाज के संस्थापक स्वामी दयानंद को भी निर्वाण प्राप्त हुआ । सिद्ध हर्ग्म के छटे गुरु हर गोबिंद सिंह जी इसी दिन कारागार से ‘मुक्त हुए थे । कई भक्तों के अनुसार इस दिन से एक दिन पूर्व श्रीकृणा ने नरकासुर का वध किया था तथा इसी दिन श्रीकृष्ण ने ब्रजवासियों की इंद्र के कोप से बचाया था । इसी दिन स्वामी रामतीर्थ देह को त्यागकर एउक्त हो गए थे । इसलिए दीपावली का दिन सभी भारतवासियों के’ लिए पु}यकारक दिन है । दीपावली का त्योहार अपने साथ अनेक त्योहार लेकर आता है । दीपावली से दो दिन पहले त्रयोदशी के दिन धनतेरस मनाया जाता है । इस दिन लोग नए बर्तन खरीदते हैं । चर्तुदशी को नरक चौदस तथा अमावस्या को दीपावली मनाई जाती है । दीपावली से अगले दिन गोवर्धन पूजा होती है । दीपावली की तैयारियां कई दिन पहले ही प्रारंभ हो जाती हैं । लोग अपने घरों, दुकानों में सफाईयां करवाते हैं तथा रंग-रोगन करवाते हैं । बाजार सजे होते हैं । बाजारों में खूब चहल-पहल होती है । हर शहर दुल्हन की तरह सजे नजर आते हैं । दीपावली के दिन लक्ष्मी- गणेश तथा सरस्वती की पूजा की जाती है । संबंधियों तथा मित्रों को तोहफे तथा मिठाईयां दी जाती हैं । दीपावली की रात को कुछ लोग जुआ खेलते हैं तथा शराब पीते हैं । इस प्रकार वे दीपावली की पवित्रता को भंग कर देते हैं । इसके अतिरिक्त आतिशबाजियों पर भी लाखों रुपये खर्च करते हैं । हमें इस प्रकार की बुराईयों एवं फिजूलखर्ची से बचना चाहिए । इस दिन हमें प्रण करना चाहिए कि केवल बाहरी प्रकाश ही नहीं बल्कि अपने हृदयों में भी सद्‌गुणों का प्रकाश करना चाहिए तथा यह भी प्रयास करना चाहिए कि इस संसार में जहां कहीं भी गरीबी भुखमरी, अशिक्षा एवं बुराईयों का अंधेरा है, दूर हो ।

Essay on Diwali in Hindi Language

दीपावली या दीवाली रोशनी का त्योहार है
दीपावली का अर्थ है दीपों की पंक्ति।
दीपावली दीपों का त्योहार है।
इसे दीवाली या दीपावली भी कहते हैं।
इसे सिख, बौद्ध तथा जैन धर्म के लोग भी मनाते हैं।
दीपावली के दिन अयोध्या के राजा श्री रामचंद्र अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे।
श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीए जलाए थे।
तब से आज तक प्रति वर्ष यह पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं।
यह पर्व अक्टूबर या नवंबर महीने में पड़ता है।
दीवाली अँधेरे से रोशनी में जाने का प्रतीक है।
कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती है।
दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाज़ार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं।
दीवाली भारत में एक सरकारी छुट्टी है
दिवाली भारत के आलावा नेपाल , श्रीलंका , म्यांमार , मारीशस , गुयाना , त्रिनिदाद और टोबैगो , सूरीनाम , मलेशिया , सिंगापुर और फिजी में भी मनाया जाता है .

हिंदुओं के लिए दीवाली एक महत्वपूर्ण त्यौहार है

Essay on Diwali Festival in English

Diwali is regarded as one of the most important festival of the Hindu calendar. It is celebrated across the nation with great pomp and excitement. The festival is mainly associated with lights as it is called the festival of light. On the day of the festival diyas (small clay lamps) are lit in everybody ‘s home irrespective of their social status. The name Diwali signifies ‘rows of lighted lamps ‘. Diwali is a five-day festival, beginning on the 15th day of the Hindu calendar month of Kartika (Ashwin). By the Gregorian calendar, Diwali falls in October or November. Diwali marks the beginning of the Hindu and Gujarati New Year and is celebrated with the lighting of lamps and candles, and lots of fireworks. People decorate their home with beautiful diyas and making rangoli pattern in the courtyard and in front of the gate. They put flowers and mango leaves on their doors and windows. Diyas and candles are placed on rooftops, rooms, and kitchen and even in the bathrooms. On this day, people worship Lord Ganesha, the foremost of all Hindu Gods and Goddess Lakshmi, the Goddess of Wealth and Prosperity. It is time to exchange gifts and sweets with friends, relatives and neighbors.

Due to India ‘s varied cultural diversity there are many manifestations of the Diwali festival. The festival begins with Dhanteras, a day set aside to worship the goddess of prosperity, Goddess Lakshmi. On this day, homes are cleaned and paintings are done. There are various legends associated with the celebration of Diwali. But people mostly associate the celebration with the legend of Lord Ram returning to his kingdom of Ayodhya after fourteen years of exile and defeating Ravana, the demon king. In Bengal, the celebration is marked with the worship of Goddess Kali. People celebrate Kali puja with great fervor and enthusiasm. Joy and festivity reins every corner of the nation during the Diwali season. Diwali festival is the one Hindu festival that unites the whole of India. The exchange of sweets and the explosion of fireworks customarily accompany the celebration of the festival. Diwali is an occasion for cheerfulness and togetherness. This is that time of the year when people of all age and all class take part in its celebration.

Essay on Diwali in English

Diwali is one of the most colorful, sacred and loveliest festivals of the Hindus. It is celebrated every year with great joy and enthusiasm throughout the length and breadth of the country. The festival of Diwali marks the happy return of lord Rama to Ayodhya after fourteen year’s exile. It is a festival of lights and festivities. It comes off about twenty days after Dussehra and shows the advent of winter. It is to the Hindus what Christmas is to the Christians. It lends charms and delight to our life.

Diwali or Deepawali means a row or collection of lamps. A few days before Diwali, houses, buildings, shops and temples arc thoroughly cleaned, white-washed and decorated with pictures, toys and flowers. They look as beautiful as a newly, wedded girl. Beautiful pictures are hung on the walls and everything is tip-top. On the Diwali day, people put on rich clothes and move about in a holiday mood. People exchange greetings and gifts or sweets on this day.

At night, buildings are illuminated with earthen lamps, candle-sticks and electric bulbs. The city presents a bright and colourful sight. Sweets and toy shops are tastefully decorated to attract the passers-by. The bazaars and-streets are overcrowded. People buy sweets for their own families and also send them as presents to their friends and relatives. Children explode crackers. At night, Goddess Laxmi, the goddess of wealth, is worshiped in the form of earthen images and silver rupee. People believe that on this day, Hindu Goddess Laxmi enters only those houses which are neat and tidy. People offer prayers for their own health, wealth and prosperity. They let the light on so that Goddess Laxmi may find no difficulty in finding her way in and smile upon them.

Diwali is a big occasion for celebration and we should always play it safe. We get a lot of fun and pleasure while burning candles and crackers. But, these crackers are not without disadvantages. Some crackers are loud enough to disturb human-beings. Since, fire-rockets flies up high in the sky, they should be fired only in a large open area so that the nearby inhabitants are put to risk.

Businessmen open new accounts on this day. But it is very sad that some people gamble on this day. It marks the beauty and sanctity of the festival. Off the whole, this festival is an occasion for joy, thrill and excitement.

Essay on Diwali Vacation

I spent my Diwali vacation at my grandmother`s house in Shimla. I did a lot of
activities like bursting-crackers and making rangoli. I played with my cousin sister Anjali. After some days my Dad and my Brother came. Then we went for a picnic to a place called Shimla Wonderland. We went to an amusement park where we enjoyed playing in the water pool. then we went to a restaurant to have our lunch. We enjoyed the food. There after we came back home. I enjoyed my vacation.

Essay on Diwali in Marathi

सर्व सणांमध्ये दिवाळी हा माझा आवडता सण आहे . दिवाळी हा सन अश्विन महिन्यात येतो . त्यावेळी शाळेला सुट्टी असते .

दिवाळीच्या दिवसांत आमच्या घरी खूप धामधूम असते . आम्ही घर सजवायला दारावर तोरण बांधतो . मी आणी ताई घरीच कंदील करतो . लाडू, करंज्या , चिवडा , चकल्या असे वेगवेगळे पदार्थ आई बनवते . त्यावेळी तिला आम्ही मदत करतो .

आईबाबा दिवाळीला आम्हांला नवीन कपडे घेतात . नवीन कपडे घालून आम्ही आनंदाने फिरतो . आम्ही खूप फटाके वाजवतो . मित्रांबरोबर खेळतो आणि भरपूर भटकतो .

दिवाळीच्या दिवसांत आम्ही दारात रांगोळी काढतो . संध्याकाळी लक्ष्मीची पूजा करतो . भाऊबिजेला ताई मला ओवाळते . मी तिला भेटवस्तू देतो .

दिवाळी हा प्रकाशाचा सण आहे . तो आनंदाचा सण आहे . दिवाळी सगळीकडे उल्हास असतो . म्हणून दिवाळी हा सण मला खूपच आवडतो .

Essay on Diwali in Tamil

பள்ளி மாணவர்கள் தமிழ் தீபாவளி 2015 கட்டுரை
தீபாவளி அல்லது தீபாவளி இது விளக்குகள் அல்லது தீபாவளி அல்லது தீபாவளி விழா என அழைக்கப்படுகிறது இந்தியா, நேபால், இலங்கை, சிங்கப்பூர், பிஜி, மற்றும் பிற நாடுகளில் முதலியன acros கொண்டாடப்படும் ஒரு முக்கிய இந்து மதம் திருவிழா ஆகும். அது லட்சுமி, ஒளி, அதிர்ஷ்ட தெய்வம் வணங்கி இந்துக்கள் கொண்டாடப்படுகிறது.
தீபாவளி வழக்கமாக நவம்பர் அக்டோபர் மாதம் போது ஏற்படும் கார்த்திக் மாதத்தில். தீபாவளி 2015 10 நவம்பர், இந்தியா, 11 வது நவம்பர் ம் தேதி கொண்டாடப்படுகிறது. இது 14 ஆண்டுகளாக இருந்த அவரது வெளிநாட்டில் இருந்து ராமர் திரும்ப ஒரு குறி வட இந்தியாவில் கொண்டாடப்படுகிறது. தீபாவளி சரியாக 20 நாட்கள் கழித்து தசரா விழுகிறது.
தீபாவளி ஆழங்கள் அல்லது diyas திருவிழா அர்த்தம். ஆழமான அல்லது தியா எண்ணெய் மற்றும் மெழுகுவர்த்தி நூல் நிரப்பப்பட்ட இது ஒரு சிறிய மண்ணாற் கட்டமைப்பில் ஏற்றி இது விளக்குகள் உள்ளன.
தீபாவளி கொண்டாட அனைத்து இந்துக்களும், diyas மற்றும் குழந்தைகள் மற்றும் முதியோர்கள் தீபாவளி கொண்டாட தீ பட்டாசு எரிக்க என அழைக்கப்படும் விளக்குகள் தங்களது வீடுகள், பணியிடங்கள், கடைகள், வணிக வீடுகள் வரை ஏற்றி. இனிப்புகள் விநியோகிக்கப்படும் மற்றும் தீபாவளி க்கான பட்டாசு இணைந்து பரிவர்த்தனை செய்யப்படுகின்றன.
கடை படை தீபாவளி நிறைய போது வாடிக்கையாளர்கள் இன்னும் ஷாப்பிங் செய்ய தள்ளுபடிகள் மற்றும் கூப்பன் குறியீடுகள் வழங்குகின்றன.
இந்த தீபாவளி நினைவில் மிக முக்கியமான விஷயம், நாம் குப்பை நம் அண்டை பேட்டை வேண்டாம் நாம் பட்டாசு எரிக்க போது சிறிய குழந்தைகள் மற்றும் பெரியவர்கள் பார்த்துக்கொள்ள என்பதை உறுதி செய்ய உள்ளது. அது நீர் முழு ஒரு வாளி சுற்றி, பெரியவர்கள் குழந்தைகள் முன்னோர்களின் மேற்பார்வையில் ஒரு திறந்த தரையில் உள்ள பட்டாசு தனியாக பட்டாசு எரிக்க எரிக்க அனுமதிக்க கூடாது கொண்ட போல் பாதுகாப்பு நடவடிக்கைகளை எடுத்து முக்கியமானது. தீபாவளி ஒளி ஒரு பண்டிகை ஆகும், ஆனால் காரணமாக தீ பிரச்சினைகள் பல விபத்துக்கள் நடக்கும். ஒரு சந்தோஷமான நேரத்தில் சோகக் மாற்ற தவிர்க்க இந்த பார்த்துக்கொள்ள வேண்டும். விழா அனுபவிக்க மற்றும் நீங்கள் பட்டாசு எரிக்க போது கவனமாக இருக்க வேண்டும்.
தீபாவளி விளம்பரங்கள் அதனால் நீங்கள் நிறைய பணம் சேமிக்க கிடைக்கும் சிறப்பு விளம்பரங்கள் மற்றும் கூப்பன் குறியீடுகள் பயன்படுத்தி கடைக்கு உறுதி குறைந்தது 2-3 நாட்கள் உண்மையான திருவிழா முன் ரன்.

இனிய தீபாவளி 2015 ஒரு பாதுகாப்பான தீபாவளி வேண்டும்.

Essay on Diwali in Telugu

పాఠశాల విద్యార్థులకు తెలుగు లో దీపావళి 2015 ఎస్సే
దీపావళి లేదా దీపావళి ఇది కూడా లైట్స్ లేదా దీపావళి లేదా దీపావళి పండుగ అని పిలుస్తారు భారతదేశం, నేపాల్, శ్రీలంక, సింగపూర్, ఫిజీ మరియు ఇతర దేశాలలో మొదలైనవి acros జరుపుకునే ప్రధాన హిందూ మతం పండుగ. ఇది లక్ష్మి, కాంతి, అదృష్టం దేవత పూజలు హిందువులు జరుపుకుంటారు.
దీపావళి సాధారణంగా నవంబర్ అక్టోబర్ నెలలో సంభవించే కార్తీక మాసంలో వస్తుంది. దీపావళి 2015 10 వ నవంబర్ మరియు భారతదేశం లో నవంబర్ 11 న జరుపుకుంటారు. ఇది కూడా 14 సంవత్సరాల తన ప్రవాసం నుంచి లార్డ్ రామ తిరిగి సూచకంగా ఉత్తర భారతదేశం జరుపుకుంటారు. దీపావళి సరిగ్గా 20 రోజుల తరువాత దసరా వస్తుంది.
దీపావళి deeps లేదా diyas పండుగ అర్థం. లోతైన లేదా దియా చమురు మరియు కొవ్వొత్తి దారంతో నిండి ఇది ఒక చిన్న మట్టి నిర్మాణం వెలిగించి ఇవి లైట్లు ఉంటాయి.
దివాలీ సంబరాలు హిందువులందరూ diyas మరియు పిల్లలు మరియు పెద్దలు దివాలీ జరుపుకుంటారు అగ్ని క్రాకర్లు బర్న్ అని పిలుస్తారు లైట్లు వారి ఇళ్ళు, కార్యాలయాల్లో, దుకాణాలు, వ్యాపార ఇళ్ళు అప్ లిట్. స్వీట్స్ పంపిణీ మరియు దివాలీ కోసం క్రాకర్స్ తో పాటు ఇచ్చిపుచ్చుకుంటారు.
షాప్ కీపర్లు దివాలీ చాలా సమయంలో వినియోగదారులు మరింత షాపింగ్ చేయడానికి కొరకు డిస్కౌంట్లను మరియు కూపన్ సంకేతాలు అందిస్తున్నాయి.
ఈ దివాలీ గుర్తుంచుకోవడానికి ముఖ్యమైన విషయం మేము ఈతలో మా పొరుగు హుడ్ లేదు మరియు మేము క్రాకర్లు బర్న్ ఉన్నప్పుడు చిన్న పిల్లలు మరియు పెద్దల సంరక్షణ పడుతుంది నిర్ధారించుకోండి ఉంది. ఇది నీటి పూర్తి బకెట్ చుట్టూ, పెద్దల పిల్లలు పెద్దల పర్యవేక్షణలో లో ఒక ఓపెన్ గ్రౌండ్ లో క్రాకర్స్ ఒంటరిగా క్రాకర్లు బర్న్ మరియు బర్న్ అనుమతిస్తుంది లేదు కలిగి వంటి భద్రతా చర్యలు తీసుకోవాలని ముఖ్యం. దీపావళి కాంతి ఒక పండుగ, కానీ కారణంగా అగ్ని సమస్యలకు అనేక ప్రమాదాలు జరిగే. ఒక సంతోషంగా క్షణం ఒక విచారంగా ఒక మార్చుకునేందుకు నివారించేందుకు ఈ యొక్క శ్రద్ధ వహించడానికి ఉంది. ఫెస్టివల్ ఆనందించండి మరియు మీరు క్రాకర్లు బర్న్ ఉన్నప్పుడు జాగ్రత్తగా ఉండాలి.
దీపావళి ప్రమోషన్లు కాబట్టి మీరు మీ కోసం డబ్బు సేవ్ అందుబాటులో ప్రత్యేక ప్రమోషన్లు మరియు కూపన్ సంకేతాలు ఉపయోగించి షాపింగ్ నిర్ధారించుకోండి కనీసం 2-3 రోజులు అసలు పండుగ ముందు అమలు.

హ్యాపీ దీపావళి 2015 ఒక సేఫ్ దీపావళి కలవారు.

Essay on Diwali in Bengali

স্কুল শিক্ষার্থীদের জন্য বাংলা দীপাবলী 2015 রচনা
দীপাবলী বা দীপাবলী এটি লাইট বা দীপাবলী বা দীপাবলী উৎসব হিসেবে বলা হয় ভারত, নেপাল, শ্রীলঙ্কা, সিঙ্গাপুর, ফিজি এবং অন্যান্য দেশের ইত্যাদি acros পালিত একটি প্রধান হিন্দু উৎসব. লক্ষ্মীর, আলো, ভাগ্য দেবী উপাসনা হিন্দুদের দ্বারা পালিত হয়.
দীপাবলী সাধারণত 10 নভেম্বর এবং ভারতে 11 নভেম্বর পালিত হয় November.Diwali 2015 অক্টোবর মাসে যা ঘটে কার্তিক মাসে পড়ে. এটি 14 বছর এবং তার নির্বাসন থেকে ভগবান রাম ফেরত অংশ হিসেবে উত্তর ভারতে পালিত হয়. দীপাবলী ঠিক 20 দিন পরে Dussehra পড়ে.
দীপাবলী বাঁধল বা diyas এর উত্সব মানে. গভীর বা Diya তেল ও মোমবাতি থ্রেড ভরা হয়, যা একটি ছোট মাটির গঠন শয়নকামরা হয় যা লাইট হয়.
দিওয়ালি উদযাপন সব হিন্দুরা বিতরণ করা হয় diwali.Sweets উদযাপন ফায়ার-পটকা বার্ন diyas এবং শিশু এবং প্রাচীন হিসেবে পরিচিত লাইট সঙ্গে তাদের ঘর, কর্মস্থলে, দোকান, ব্যবসা প্রতিষ্ঠান শয়নকামরা আপ এবং দিওয়ালি জন্য বাদাম কাটিবার যন্ত্র সঙ্গে বরাবর বিনিময়.
দোকানদারদের এর দীপাবলী অনেক সময় গ্রাহকদের আরো এবং আরো কেনাকাটা করতে জন্য ডিসকাউন্ট এবং কুপন কোড অফার.
এই দীপাবলী মনে রাখা সবচেয়ে গুরুত্বপূর্ণ বিষয় আমরা জঞ্জাল আমাদের প্রতিবেশী ফণা না এবং আমরা বাদাম কাটিবার বার্ন যখন ছোট বাচ্চাদের এবং বয়স্ক ইহুদী নেতারা যত্ন নিতে নিশ্চিত যে করতে হয়. এটা জলময় একটি বালতি প্রায়, প্রাচীনদের বাচ্চাদের প্রাচীনদের তত্ত্বাবধানে একটি খোলা মাটিতে বাদাম কাটিবার একা পটকা বার্ন বার্ন করার অনুমতি দেয় না থাকার মত নিরাপত্তা ব্যবস্থা গ্রহণ করা জরুরী. দীপাবলী আলোর উৎসব, কিন্তু কারণে ফায়ার সমস্যা অনেক দুর্ঘটনা ঘটেছে. এক শুভ মুহূর্তে একটি দু: খিত এক রূপান্তর এড়াতে এই যত্ন নেওয়া হয়েছে. উৎসব উপভোগ এবং আপনি বাদাম কাটিবার বার্ন করার সময় সতর্কতা অবলম্বন করা হয়.
দীপাবলী প্রচার যাতে আপনি নিজের জন্য অনেক টাকা বাঁচাতে উপলব্ধ বিশেষ প্রচার এবং কুপন কোড ব্যবহার করে কেনাকাটা নিশ্চিত অন্তত 2-3 দিন প্রকৃত উত্সব আগে চালানো.

শুভ দীপাবলী 2015. একটি নিরাপদ দিওয়ালি আছে.

Happy Diwali Speech in English

Diwali is one of the religious and oldest festivals of Hindu cultural and is celebrated with great enthusiasm and happiness. During ancient times, it is celebrated in different manner in which peoples decorate their houses with Rangoli and during the night they burn the candle of Ghee in each and every corner of home till next morning. Because Diwali Came on Full Moon Night, which is one of the dangerous night of whole year, in which soul of devil’s will alive and these candle will protects them.But in the later 19th Century, the definition of Diwali has been totally changed by the modern technology. Nowadays, Candles of Ghee has been replaced with electronic and electrical light which is cheaper, easily available in market and increase the glow of homes. In ancient times peoples celebrates Diwali festival very simple like in the morning they cleaned their houses later in the evening initially they worship the Gods and in night they dinner together with family and eat some sweet dishes which is made only for Diwali in homes. But nowadays Diwali means explosion of heavy crackers and enjoy artificial sweets which are made from chemicals. So both Cracker and Artificial Sweets will cause harm to environment and human body respectively. So this Diwali we take a pledge to avoid high cracker as much as we can and we will eat only sweet dishes which you can easily make in the home with no chemical.

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.